केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पासपोर्ट, आधार, ड्राइविंग लाइसेंस और बैंक खातों जैसी सभी उपयोगिताओं वाले नागरिकों के लिए एक बहुउद्देशीय पहचान पत्र के विचार का प्रस्ताव रखा।

मंत्री ने यह भी कहा कि जनगणना 2021 डेटा को मोबाइल ऐप के माध्यम से एकत्र किया जाएगा, एक ऐसा कदम जो देश की जनगणना अभ्यास में एक बड़ी क्रांति होगी।

उन्होंने कहा कि ऐसी प्रणाली भी होनी चाहिए कि जब किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, तो जानकारी स्वचालित रूप से जनसंख्या डेटा में अपडेट हो जाती है।

शाह ने यह भी कहा कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के लिए, देश के सामान्य निवासियों की सूची भी जनगणना अभ्यास के साथ एकत्र की जाएगी।

Source: Indian Express

Relevant for GS Prelims & Mains Paper II; Polity & Governance